Skip to main content

Tokens in C++



Tokens are basic building blocks of C++ program. They are made of single character or group of characters. They are recognized as a basic meaningful unit of C++ program by C++ compiler while translating the source code into machine code. They can not be divided into more meaningful units. C ++ language has following types of tokens:
Token C++ program के basic building blocks होते है। ये एक character या character के समूह के बने होते है।  इन्हें C++ Compiler के द्वारा source code को machine code में translate करते समय प्रोग्राम के basic meaningful unit के रूप में पहचाना जाता है। इन्हें और अधिक meaningful unit में विभाजित नहीं किया जा सकता है। C++ Language में  निम्नलिखित प्रकार के tokens होते है—

1. Keywords
2. Identifiers
3. Constants
4. Operators
5. Strings


1. Keywords

Keywords are predefined words for performing various tasks in C++. They are also called reserved words or commands of C++. They are always written in small letters. There are total 32 keywords in C++. 
C++-Language में विभिन्न प्रकार के कार्यो को करने के लिए पहले से बने शब्दों को Keywords कहते है। इन्हें reserved words या C++ के commands भी कहा जाता है। इन्हें सदैव small letters में ही लिखा जाता है। C++ Language में कुल 32 keywords है।

Following are the complete list of keywords: 
auto, double, int, struct, break, else, long, switch, case, enum, register, typedef, char, extern, return, union, const, float, short, unsigned, continue, for, signed, void, default, goto, sizeof, volatile, do, if, static, while.


2. Identifiers

Identifiers are new words created by us for storing data and performing special tasks in C++. They are actually the name given by us to the variables, arrays, structures, and functions. With the help of identifier we identifies our data within memory and able to use it in program. 
Identifier डेटा को स्टोर करने और विशेष कार्यो को करने के लिए हमारे द्वारा बनाए गए नए शब्दों को कहा जाता है। वास्तव में ये एक नाम होते है जो हमारे द्वारा variables, arrays, structures और functions को दिए जाते है। Identifier की सहायता से ही हम अपने डेटा को मेमोरी में identify करते है और इसे प्रोग्राम में उपयोग कर पाते है। 

Rules for creating identifier:

(a) Only alphabet (A-Z, a-z) and digits (0-9) are allowed for naming identifier.
       केवल alphabet (A-Z, a-z) और digits (0-9) का प्रयोग ही identifier के नाम में किया जा सकता है।
(b) Only special symbol underscore ( _ ) can be used in identifier name.
       केवल एकमात्र special symbol underscore ( _ ) का प्रयोग ही identifier के नाम में किया जा सकता है।
(c) Identifier name must begin with alphabets or underscore not with digits.
       Identifier का नाम alphabets या underscore से ही शुरू होना चाहिए digits से नहीं।
(d) Keywords can't be used as identifier.
       Keywords का प्रयोग identifier के रूप में नहीं किया जा सकता है।
(e) Two identifier with the same name is also not allowed.
       एक ही नाम से दो identifier नहीं बनाए जा सकते है।

Following are some example of identifiers:

variables: a,b,c,num,sum,avg etc. 
arrays: roll[5], sal[50] etc. 
structures: student, employee etc. 
functions: sum(), avg(), display() etc.


3. Constants

Constants refers to the fixed value that doesn’t change during execution of program. No matter where we use it in program, its meaning always remains same.
Constant एक fixed value होता है जो प्रोग्राम के execution के दौरान नहीं बदलता है। इससे फर्क नहीं पड़ता कि हम इसे प्रोग्राम में कहाँ प्रयोग कर रहे है, इसका अर्थ सदैव fix रहता है। 

Following are some example of constants:
Integers: 5, 70, -31, 0 etc.
Floats: 23.45, 3.7, -66.78 etc.
Characters: 'A', 'a', '+', '-' etc.
Strings: "A", "a", "Vijay", "Kunal" " ", "" etc.


4. Operators
Symbols that are used to perform operation between values or variables are called operators. They could perform various operations on values or variables such as calculation, comparison, decision and assignment etc. 
वे symbols जिनका प्रयोग values या variables के बीच operation करने के लिए किया जाता है operator कहलाते है। ये values या variables पर बहुत प्रकार के operation जैसे—calculation, comparison, decision और assignment आदि कर सकते है।


Examples:
Arithmetic Operators: +, -, *, /, %
Relational Operators: <, >, <=, >=, ==, !=
Logical Operators: &&, ||, !
Assignment Operator: =


5. Strings
String is a group of characters which is enclosed within double quotes. It is also called array of characters. It is used to store data such name, class, mobile number, aadhar number, address etc. String is always terminated by a special character called null '\0' which shows the end of string.
String characters के समुह को कहते है जिसे double quote के अंदर लिखा जाता है। इसे characters का array भी कहा जाता है। इसका प्रयोग नाम, क्लास, मोबाईल नंबर, आधार नंबर आदि डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है। String के अंत में सदैव एक special character होता है जिसे null '\0' कहते है जो string के अंत को सूचित करता है। 

Examples: 
name[20], address[50] etc.