Skip to main content

POP vs OOP


Programming refers to the process of developing programs for solving programming problems. There are mainly two ways of writing programs: Procedure Oriented Programming (POP) and Object Oriented Programming (OOP). Both of them has different thinking and coding method of solving problem.

प्रोग्रामिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें हम programming problems को हल करने के लिए प्रोग्राम बनाते है। प्रोग्राम लिखने के दो तरीके होते है—Procedure Oriented Programming (POP) और Object Oriented Programming (OOP). इन दोनों में समस्या का हल सोचने और कोडिंग करने के अलग-अलग तरीके होते है।


Procedure Oriented Programming (POP)

In POP solution of programming problem is viewed as sequence of tasks to be done such as reading, processing and writing and number of functions are written to accomplish these task. One of the biggest drawback of POP is that it does not create model of entities related to the problem. Another serious drawback of POP is that many data items are declared as global so that it may be used by all functions within program. This makes our data insecure as it can be unnecessarily changed by any function.

POP में किसी programming problem के हल को क्रमबद्ध कार्य करने जैसे—reading, processing और writing के रूप में देखा जाता है और इन कार्यो को पूरा करने के लिए बहुत सारे functions लिखे जाते है। POP की एक बड़ी कमी यह है कि यह समस्या से संबंधित entities का model तैयार नहीं कर पाता है। POP की दूसरी गंभीर समस्या यह है कि इसमें कई सारे data items को global declare किया जाता है ताकि इन्हें प्रोग्राम के सभी function के द्वारा प्रयोग किया जा सके। इससे हमारा डेटा असुरक्षित हो जाता है क्योंकि इसे किसी भी functions के द्वारा आनावश्यक रूप से परिवर्तित किया जा सकता है।
Organization of data and functions in POP
Object Oriented Programming (OOP)

In OOP for solving problems we first create model of entities related to the problem called objects. Here objects are actually the group of related data and functions. They are also called basic run time entities in object oriented system. They represents real world entities of problem such as student, customer, products program has to handle. In real world each entity has some data and some functions. For example if the entity is a student then data would be name, marks, percent etc. and functions would be getdata, putdata etc. The data of one object can only be accessed by the functions of that object. However the functions of one object can be accessed by the functions of another object. Thus in OOP data are hidden from outside objects and remains secure.

OOP में समस्या को हल करने के लिए पहले हम समस्या से संबंधित entities का model तैयार करते है जिन्हें object कहते है। वास्तव में object संबंधित data व functions के समूह होते है। इन्हें object oriented system में basic run time entities भी कहते है। ये समस्या के वास्तविक दुनिया के entities जैसे—student, customer, products को represent करते है जिन्हें प्रोग्राम को handle करना होता है। वास्तविक दुनिया में प्रत्येक entity के कुछ न कुछ data व functions होते है। उदाहरण के लिए यदि entity कोई student है तो name, marks, percent आदि इसके data हो सकते है तथा getdata, putdata आदि इसके function हो सकते है। एक object के अंतर्गत आने वाले data को केवल उसी object के functions के द्वारा ही access किया जा सकता है। किन्तु एक object के अंतर्गत आने वाले functions को दूसरे object के functions के द्वारा भी access किया जा सकता है। इस प्रकार OOP में data बाहरी object से छिपा हुआ व सुरक्षित रहता है।





Organization of data and function in OOP 
Difference between POP and OOP

Difference between POP and OOP